Thappad movie story |review|box office collection|thappad movie download

Thappad movie story |review|budget|in Hindi

thappad movie download in hindi


Thappad story


  • In Hindi:-

फिल्म की कहानी एक मैरिड कपल के इर्द गिर्द लिखी गई है जो सालो से  एक दूसरे के साथ आइडियल रिलेशनशिप में बंधे हुए हैं   | पैसा है प्यार है और दुनिया के सामने अच्छी खासी इज़्ज़त भी है एक केयरिंग वाइफ है जो अपने घरवालों को खुश रखने के लिए खुद के सपनों को क़ुर्बान कर देती है बिना किसी सैलरी या फिर तारीफ के हर कम में अपना हंड्रेड परसेंट देती है और बदले में सिर्फ उसको थोड़े से प्यार की तलाश है, यह कुछ जयदा बोलति नहीं है लेकिन दिल और दिमाग में हमेशा दूसरो की भलाई रखती है इनके हस्बैंड यानि पतिदेव इनके बिलकुल अपोजिट है यह हर चीज़ में दूसरों से पहले खुद के फ़ायदे और नुकसान की नाप टोल करते हैं बिज़नेस में दूसरो को निचा दिखने में इनको काफी मजा आता है और सोसाइटी में आगे बढ़ने वाली औरतों को जज  करना इनके पसन्दीदा शौक में से एक है | 

कहानी में ट्विस्ट आता है जब इनकी अच्छी खासी नार्मल जिंदगी पटरी से उतर जाती है मौज मस्ती और ख़ुशियों वाली पार्टी के बिच में पतिदेव अपनी पत्नी को काफी सारे लोगों के सामने थपड मार देते हैं जो की उनके शरीर नहीं बल्कि उनकी सोच को जाकर लग जाता है क्या एक मामूली सा देखने वाला थप्पड़ इतनी ताकत रखता है की वह सालों पुराने रिश्ते को जड़ से उखड कर फेंक दे क्या सच में थप्पड़ दो लोगों के बिच में डाइवोर्स यानी तलक की वजह बन सकता है उस थप्पड़ क पीछे आखिर ऐसा क्या है जो इंसान को दुनिया की सभी रिश्तो से आज़ादी ढूँढ़ने क लिए मजबूर कर देता है। सभी सवालों के ा जवाब देने का कम करती है फिल्म थप्पड़ कम।फिल्म का असली  जादू सामने देखने वाली कहानी में नहीं बल्कि बैकग्राउंड में चलने वाली छोटी छोटी कहानियां में छुपा हुआ है ।



जीनमें कभी एक लॉयर   की एक पर्सनल लाइफ को शोकेस किया जाता है जो बाहर लड़कियों की इन्साफ क लिए लड़ती है लेकिन खुद के घर में अपने पति से के रहने पैर मजबूर है
दूसरी कहानी एक मदर एंड डॉटर की है जो एक दूसरे के लिए ख़ुशियों की तलाश कर रहे हैं और सोसाइटी की नियम कायदो से लड़ै लड़ रहे हैं
तीसरी कहानी एक मिडिल क्लास हस्बैंड वाइफ की है जो अपने बच्चों की जिंदगी को सुधरने के चक्कर में अपने सपनों से समझौता कर लेते हैं फिल्म की मास्टरमाइंड हैं |

thappad movie budget

  • 35 crores

thappad movie box office collection

  • 28.45 crores

thappad movie cast

  • Taapsee Pannu(Amrita)
  • Pavail Gulati (Vikram Sabharwal)
  • Tanvi Azmi (Sulekha Sabharwal)
  • Sushil Dahiya (Romesh Sabharwal)
  • Nidhi Uttam (Kavita Sabharwal)
  • Kumud Mishra (Sachin Sandhu)
  • Ratna Pathak Shah(Sandhya Sandhu)
  • Ram Kapoor as (Advocate) 
  • Dia Mirza  (Shivani)

thappad movie songs

  • "Ek Tukda Dhoop" Raghav Chaitanya
  • "Dancing In The Sun" Sharvi Yadav
  • "Hayo Rabba" Suvarna Tiwari

thappad movie IMDB rating

  • 6.4/10

Thappad review

 इस फिल्म क डायरेक्टर अनुभव सिन्हा जिन्होंने हम जैसे नार्मल लोगों की बीच  से एक मामूली सी कहानी को उठाकर बड़े परदे पैर उतार दिया है एक ऐसी कहानी जिसमें हम फिल्म क चरक्टेर्स को कम और खुद की जिंदगी को ज्यादा देखने लगते हैं बैंड दरवाजे के पीछे होने वाली बैटन को खुलेआम बिना दर हमारे सामने रखा जाता है कुछ ऐसे किस्से जिसका हिस्सा हम सब अपनी जिंदगी में कभी न कभी जरुर बने हैं फिर चाहे मन बाप की दांत हो या फिर प्यार में मिलाने वाला धोखा हो या फिर डोमेस्टिक वायलेंस िने सब के बारे में हम सोचते काफी ज्यादा है लेकिन खुलकर कभी बोलते नहीं है |

बॉलीवुड को भी एक जोरदार तमाचा मारने वाला कम किया गया है जो अक्सर लड़कियों को एक ऑब्जेक्ट की तरह प्रेजेंट करता है उनको सिर्फ आइटम सांग्स नचाया जाता है उनके ऊपर बढ़े चुटकुले बनाए जाते हैं या फिर हीरो के प्यार में पागल और मजबूर दिखाया जाता फिल्म का नाम  भले ही थप्पड़ है लेकिन यह सिर्फ एक  थप्पड़ तक सिमित नहीं है और मैसेज देने की कोशिश की गई है आपकी जिंदगी में गलत कैसे हुआ इसके पीछे छोड़ते हुए गलत क्यों हुआ इस सवाल को बार बार दोहराया जाता है फिर चाहे आप एक लड़की हो या लड़का हो अगर आप खुद खुद दूसरों की बैटन में आकर जिंदगी जिने लगते हैं तो आप खुद की पहचान को धीरे धीरे खोना शुरू कर देते हैं और एक दिन ऐसा आता है जवाब खुद से नफरत करने के लिए मजबूर हो जाते हो |

फिल्म सबसे बड़ी स्ट्रेंथ हैं तापसी जिन्होंने ने बेहतरीन तरीके से मैरिड वीमेन के करैक्टर को प्ले किया है उनके एक्टिंग इतनी ज्यादा मजबूत और रीयलिस्टिक है क्या आप उनके चेहरे के पीछे अपनी लाइफ के रिश्तो की झलक देखने लगते हैं पावैल ग़लती ने फिल्म में नेगेटिव करैक्टर को बखूबी निभाया है और आप उनसे से नफरत करने पैर मजबूर हो जाते हैं रत्ना पाठक शाह और कुमुद मिश्रा की जोड़ी आपका दिल जितने वाली है और मानव कॉल छोटे से रोल मैं आपको अंदर से हिलै देते हैं तोह यार कम शब्दों में बोलूँ दो थप्पड़ एक लाइफ चेंजिंग एक्सपीरियंस है जिसमें आप किसी हीरो हीरोइन की कहानी को महसूस नहीं करेंगे बल्कि आपका सामने से होने  वाला है जिसको शायद आपने कहीं पीछे छोड़ दिया होगा लेकिन अब वक़्त ा गया है चुन चुन कर सही गलत का हिसाब करने का थप्पड़ एक ऐसी फिल्म साबित हो सकती है जो बॉलीवुड को शर्म से पानी पानी कर सकती है और हो सकता है की फिल्म्स में हेरोइनेस के इम्पोर्टेंस को लेकर भी सवाल उठाना शुरू हो | जाए 

मेरी तरफ से थप्पड़ को ५ में से ४ स्टार्स फिल्म दमदार कांसेप्ट के लिए एक्स्ट्रा कहानी मैं करैक्टर बिल्डिंग के लिए एक शब्द उनके बेहतरीन डायरेक्शन के लिए परेशां , फिल्म से जुड़े सभी एक्टर्स की पावरफुल परफॉरमेंस के लिए बात करू नेगटिवेस की   सेकंड हाफ के लिए थोड़ा खीचक खीचा सा लगता है थोड़ा है और फिल्म को एंडिंग तक पहुँचने क लिए से थोड़ा स्लो बनाया गया है

Also, Watch

Post a Comment

0 Comments