Contagion(CORONA VIRUS) movie story in hindi and english | COVID 2019

Contagion(CORONA VIRUS) movie summary in Hindi and English | COVID 2019

contagion movie review COVID 2019

NOTE:- to convert in Hindi or English click on ":" and select your language in mobile

भाषा को बदलने के लिए ऊपर दिए गए ":" बटन पर क्लिक करे और अपनी भाषा का चुनाव करे 

STORY IN HINDI AND ENGLISH


  • हमारी हिंदी डिक्शनरी में एक बड़ा हि कमाल का शब्द है "ईत्तेफाक़" कुछ ऐसे इंसिडेंट कभी कभी जिंदगी में आते हैं जिनको समझने के लिए दिमाग की शक्तियां भी कम पड़ जाती हैं, बस होता कुछ ऐसा है जैसे मान लो सब कुछ सपने में चल रहा है और असलियत से इसका कोई लेना देना नहीं है अब coronavirus से आप भली भाती  परिचित होंगे हि,ज़ी हाँ वही बिना दात  वाला राक्षस जो दिल और दिमाग तो छोडिये सीधा आपकी जान लेने पैर तुला हुआ है जो काम किसी खतरनाक जंग  ने नहीं किया वह एक मामूली से वायरस ने करके दिखा दिया है लेकिन उससे  भी ज्यादा कमाल  की बात यह है की इस बात की भविष्यवाणी काफी पहले ही हो चुकी थि ,नही किसी पंडित वगैरह ने नहीं बल्कि  कुछ साल पहले पूरी दुनिया को सावधान करने की कोशिश की थी क्या सोच रहे हैन, इत्तेफ़ाक़ या फिर कोई साजिश घबराइए मत जवाब आपको जल्दी मिलेगा |

  •  यह पहली ऐसी है फिल्म की  जिसको बॉक्स ऑफिस पैर कमाई या फिर क्रिटिक की अच्छाई  ने नहीं बल्कि एक वायरस ने फेमस बना दिया है।देखो फिल्म को पूरी तरह समझने के लिए दो ऐसे शब्द है जिनका मतलब आपको आसान भासा में समझना काफी ज़रूरी है।
  •  पहले है contagious  यह हर उस बीमारी के साथ इस्तेमाल किया जाता है जो किसी ऑब्जेक्ट या फिर किसी इंसान के छूने से फेल जाती है,दूसरे शब्द है वायरस एक ऐसा खतरनाक ऑर्गैनिस्म जो अकेले किसी के  काम  का  नहीं है लेकिन जैसे ही इसको कोई होस्ट मिल जाता है यह खुद के  जैसे हजारो वायरस बनाकर उसको पूरी तरह बीमार  कर सकता है। खतरा ज्यादा बढ़ जाए तो बात जान पर भी ा सकती है।
  • फिल्म की कहानी एक ऐसी बीमारी के ऊपर बेस्ड है जिसकी शुरुआत एक वायरस के साथ होती है जो अपने लिए किसी होस्ट की तलाश कर रहा है जैसे ही कोई इंसान इसकी चपेट में आता है वह धीरे धीरे अपना होश खोना शुरू कर देता है एक मामूली से बुख़ार के साथ उसकी एंट्री होती है और सीधा ऑर्गन सीज़र यानि बॉडी के ऑर्गन्स को जैसे का तैसा रोक दिया जाता है और कुछ पल के खेल म एक अच्छा ख़ासा तंदरुस्त  इंसान अपनी जान से हाथ ढो बैठता है ख़ास बात यह भी है की यह वायरस हवा में उड़ कर या  फिर पानी में तैर कर नहीं बल्कि एक इंसान से दूसरे इंसान में फैल जाता है ,हाथ मिलाना या फिर किसी ऐसी चीज को छूना जिसे बीमार इंसान पहले ही टच कर चूका है बस इतनी सी ग़लती और आप भी इस बीमारी का शिकार बन सकते हैं ।
  • कहानी में ट्विस्ट आता है जब यह वायरस एक इंसान से दूसरे इंसान नहीं बल्कि एक देश से दूसरे देश में फैलना शुरू कर देता है।१००,२०० नहीं बल्कि लाखों करोड़ों लोग धीरे धीरे मरना शुरू हो जाते हैं और पूरी दुनिया में हाहाकार मत जाता है अमेरिका से लेकर चीन ऑस्ट्रेलिया से लेकर इंडिया, मैप पर दिखने वाली सारी देश  एक बाद एक इस खतरे में गिरफ्तार होती चलि जाती है सबसे बड़ा डर  इस बीमारी का इलाज ढूँढना लगभग नामुमकिन है क्यूंकि वायरस इंसान के दिमाग से काफी ज्यादा चालक है और खुद को बदलता रहता है।

  • क्या सोच  रहे हैं  एक वायरस इतना पावरफुल हो सकता है जो इंसान की जान के साथ खिलवाड़ कर दे या फिर वायरस की आड़  में एक ऐसी साजिश छुपी हुई है जिसका इस्तेमाल करके लोगों को बेवकुफ बनाया जा रहा हेसबसे जरुरी सवाल क्या उसे वायरस को हराना पॉसिबल है जो एक इंसान से दूसरे इंसान को दूर करने का कम कर रहा है और दोस्तों को एक दूसरे की जान का दुश्मन बना देता है।क्या दुनिया क ख़त्म  होने की शुरुआत हो चुकी है, या उम्मीद वायरस पर  भारी पड़ेगी और हम सब एक बार फिर से पुरानी   नार्मल ज़िन्दगी में वापस लौट पाएंग़े


  •  इन सभी सवालों के जवाब देने का कम करती है तुम Contagion।देखो फिल्म को खास मानने  की सिर्फ एक वजह है इसकी पूरी कहानी हमारी प्रेजेंट से हूबहू मैच करती है बस फर्क इतना है की  की उस  वायरस का कोई नाम नहीं था और आज coronavirus हमारे घर का मेहमान बनने के लिए दरवाजे पर बाहर खड़ा हुआ है फिल्म के डायलाग से लेकर इसमें डाले गए एक एक scene   परदे से बाहर  निकलकर हमारी सच्चाई बन चुके हैं फिर चाहे चेहरे पर मास्क लगाना हो या फिर sanitizer  लगाना दूसरों से खुद को दूर रखना हो या फिर महीने भर का सामान एक साथ  ख़रीदनाऔर असली दुनिया में ज्यादा फर्क भी नहीं है,ा
  • ब मुझे ये नहीं पता क इस बात के कितने चान्सेस हो सकते हैं की स्क्रिप्ट और ठीक उसके ९ सल बाद होने वाली इन्सिडेंट्स एक दूसरे के सिमिलर हो सकते हैं यह तो वायरस contagion  फिल्म का फैन हो गया है या फिर दाल में कुछ काला है और कहीं न कहीं कुछ तो ऐसा है जो हम सब नार्मल लोगों से छिपाया जा रहा है इत्तेफ़ाक़ शायद सबसे सटीक शब्द हो सकता है लेकिन जब १०० में से १०० चीज़े एक दूसरे की फोटोकॉपी निकल रहा है तो समझ लीजिये की  ऊपर बैठा हुआ कोई शख्स मेरी और आपकी दोनों की फिरकी ले रहा है सीखने वाली बात बस इतनी सी है फिल्म में यह वायरस वाला टॉपिक एकदम सटिक तरीके से समझाया गया है क्या करना है क्या नहीं करना है इससे बेहतर आपको कोई और नहीं बता सकता है फिल्म कुछ लम्बी भी नहीं है सीएफ १:३० घंटे की बात है और कोरोना  में एक्सपर्ट बन जाऐंगे।। यह मूवी कहा यह मिलेगी। amazon prime पर  

CAST

  • Marion Cotillard as Dr. Leonora Orantes
  • Matt Damon as Mitch Emhoff
  • Laurence Fishburne as Dr. Ellis Cheever
  • Jude Law as Alan Krumwiede
  • Gwyneth Paltrow as Beth Emhoff
  • Kate Winslet as Doctor Erin Mears, an Epidemic Intelligence Service officer

ALSO WATCH

Post a Comment

0 Comments